उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने श्रमिकों के रोजगार के लिये जो प्रयास किये थे अब वह मेहनत सफल हो चुकी है। उत्तर प्रदेश सरकार ने श्रमिकों को रोजगार देने के लिये कई औद्योगिक समूह व उद्यमी आगे आ रहे हैं।

बता दें कि यूपी सरकार ने गैर प्रदेशों से आए मजदूरों को प्रदेश में ही रोजगार देने के चलते उनकी स्किल मैपिंग करा कर एक डाटाबेस तैयार किया है और यह डाटाबेस अब उत्तर प्रदेश सरकार के लिए फायदेमंद साबित हो रहा है। सरकार का प्रयास है की हर इंडस्ट्री में इन स्किल्ड मजदूरों को काम मिले उसका यह प्रयास सफल होता दिख रहा है।

इंडियन इंडस्ट्रीज एसोसिएशन, नेशनल रियल एस्टेट डेवलपमेंट काउंसिल, सीआईआई के बीच उत्तर प्रदेश सरकार 9 लाख से अधिक मजदूरों का एमओयू साइन करेगी। हर हाथ को काम देना सरकार की प्राथमिकता में शामिल है और उसने उत्तर प्रदेश के मजदूरों के लिए एक वृहद योजना बनाई है। इसका लाभ जहां मजदूरों को मिलेगा तो वहीं उत्तर प्रदेश को भी इसका लाभ मिलेगा।

गौरतलब है कि यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ ने औद्योगिक संस्थानों का सर्वे और मैपिंग का काम शुरू करवा दिया है और हर औद्योगिक संस्थान में रोजगार पैदा करने के निर्देश दिये हैं। सीएम योगी ने निर्देश दिये हैं कि हर औद्योगिक इकाई में एक से लेकर 10 श्रमिकों के लिये जगह बनाई जाए।